रोमांटिक हिन्दी ग़ज़ल चाहते हैं तुझको ऐ सनम

romantic hindi gazal chahte hai tujhko

बहुत चाहते हैं तुझको ऐ सनम,
तरेरे बिना अब मर जायेगे हम।
कोशिश तो बहुत की तुझे भुलाने की,
मेरी याद्दाश्त तो चली गयी, पर तेरी याद न गयी।

दिमाग ने तो बहुत समझाया तुझसे प्यार न करूँ,
पर दिल ही ना माना अब मैं क्या करूँ।
बहुत चाहा की तुझे ना चाहूँ,
पर दिल है की चाहता है तुझी को पाऊँ।

हम तो पागलपन की हद तक चाहते हैं तुझे,
पता नहीं क्या बुराई है हम्मे की आप नहीं चाहते मुझे।
यह तुम जानते हो, हमसे ज्यादा प्यार तुम्हे कोई कर ना सकेगा,
फिर ऐसी क्या मजबूरी है की तुम्हारा दिल हमें अपना कह न सकेगा।

हमें हमसे प्यार करते हो,
पर तुम हो की इस बात को मानते ही नहीं हो,
ऐ यार मान भी जाऊं,
अपनी मोहब्बत को पहचान भी जाओ,
तुम प्यार करते हो हमसे अब हमारे बन भी जाओ,
हमारी मोहब्बत को समझो और हमें अब तो अपनाओ।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *